सोमवार, जून 14, 2010

तलैया

जो भी आता है 
कंकर फेंक ,धूर्त नज़रों से तौल 
कंधे उचका कर चल देता है 
निष्फल उर्मियाँ 
आर्त कम्पन दुस्सह !


दीवारें ज़मीन की
सीमा की विवश घुटन 
डाल दो एक साथ ,सारे पत्थर 
चलो सूख ही जाए ,फिर 
मन की तलैया |

1 टिप्पणी:

  1. दीवारें ज़मीन की
    सीमा की विवश घुटन
    दाल दो एक साथ ,सारे पत्थर
    चलो सूख ही जाए ,फिर
    मन की तलैया ....

    इस तरह सूखेगी मन की तलैया ...गज़ब ...!!

    उत्तर देंहटाएं